Sunday, 8 January 2012

असली लोकतंत्र अमेरिका में है, भारत में नहीं


बुद्धिमान, राष्ट्रभक्त और कामयाब नेतृत्व के धनी अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा अपनी पत्नी  और बच्चों के साथ

          लोकतंत्र की बात की जाय तो भारत के मुकाबले अमेरिका में लोकतंत्र ज्यादा मज़बूत  है।  भारत में तो सत्ता,वसीयत से संचालित हो रही है। अलग-अलग राजनीतिक पार्टियों की अलग-अलग वसीयतें हैं। कांग्रेस पार्टी,नेहरू परिवार की वसीयत से संचालित हो रही है,तो समाजवादी पार्टी,मुलायम सिंह यादव के वसीयतनामे से। राष्ट्रीय जनता दल,लालू यादव के वसीयतनामे से संचालित है तो एम.जी.रामचन्द्रन की अन्नाद्रमुक उनकी प्रेमिका जयललिता के वसीयतनामे से। ले-देकर मुख्य रूप से इस देश की तीन ही राजनीतिक पार्टियां हैं जो बगैर किसी वसीयतनामे के संचालित हो रही हैं,जिनमें एक है भारतीय जनता पार्टी, दूसरी है,बहुजन समाज पार्टी तथा तीसरी है कम्युनिस्ट पार्टी। इन तीनों पार्टियों का यदि विश्लेषण किया जाये तो कम्युनिस्ट पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ही आज की तारीख में ऐसी राष्ट्रीय स्तर की राजनीतिक पार्टी है,जो न तो वसीयतनामे से संचालित हो रही है और न ही आज तक ऐसा कुछ देखने-सुनने को मिला है कि बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुश्री मायावती ने अपने किसी रिश्तेदार को सांसद, विधायक, पार्षद अथवा ग्राम प्रधान बनवा दिया हो।
          वंशवाद की बेल पर फलफूल रही दुनिया की सबसे बड़ी जम्हूरियत है हिन्दुस्तान। भारत की अधिकांश राजनीतिक पार्टियां किसी न किसी खास व्यक्ति अथवा परिवार से ही जानी जाती हैं, जैसे कि औद्योगिक घराने जाने-पहचाने जाते हैं,उनके पुरखों के नाम से। परिवार और पार्टी एक-दूसरे के पर्यायवाची हो गये हैं। ऐसी परिस्थितियों में किसी व्यक्ति का चाहे वह कितना ही अच्छा हो,सभ्य एवं सुसंस्कृत हो,ईमानदार हो, जनता के भले की सोचता हो, जिसका मोरेल ऊंचा हो,जिसमें राष्ट्रभक्ति कूट-कूट कर भरी हो,यदि किसी राजनीतिक परिवार का सदस्य या कृपापात्र नहीं है तो सत्ता के शीर्ष पर पहुंचना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है।
          कहा जाता है भारत, अमेरिका की नकल करता है, उसके इशारे पर नाचता है तथा उसके द्वारा निर्देशित नीतियों को अपने देश में जबरन लागू भी कराता है, लेकिन मुझे तो लगता है कि भारत का राजवंश, अभी तक अमेरिका की बेहतरीन लोकतांत्रिक व्यवस्था का ही अनुशरण ही नहीं कर पाया है। कौन नहीं जानता कि अमेरिकी इतिहास ने जब करवट ली तो श्वेत जनता ने अपने यहां एक अश्वेत व्यक्ति बराक ओबामा को राष्ट्रपति का पद सौंप दिया। 
          श्वेत जो कि अश्वेतों से बेइंतहा नफरत करते हैं,उन्होंने ऐसा इतिहास रचा कि पूरे विश्व को उसका कायल होना पड़ा। समय था वर्ष 2009, अमेरिका में पहले अश्वेत राष्ट्रपति का चयन,पूरा जगत स्तब्ध,चहुं ओर एक ही सवाल? आखिरकार कौन है यह राष्ट्रपति। सच मानिये राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी की घोषणा से पहले बहुत कम लोग ही बराक ओबामा के बारे में जानते थे। नीचे के स्तर पर सुस्थापित, सक्षम, पैने, होशियार, बुद्धिमान, काबिल और कामयाब नेतृत्व के धनी बराक ओबामा जैसे व्यक्तित्व का अमेरिका जैसे देश की बागडोर संभालकर विश्व पटल पर छा जाना किसी बहुत बड़े चमत्कार से कम नहीं है। इसे कहते हैं बेहतरीन लोकतंत्र की नायाब मिसाल, जिसकी आधारशिला रखी है पूरे अमेरिकी समाज ने और आज जिसके वाहक हैं राष्ट्रपति बराक ओबामा। क्या आप सपने में भी सोच सकते हैं कि भारत में ऐसे व्यक्तित्व का कोई ओबामा,किसी गैर राजनीतिक परिवार से निकलकर सत्ता के शीर्ष पर पहुंच सकता है? कदापि नहीं। यहां सरदार जी के बारे में जरा भी सोचने की जरूरत नहीं है, क्योंकि वे तो राजवंश परिवार के एक मैनेजर भर हैं जो भारतीय इस्टेट की देखभाल, राजवंश के इशारे पर कर रहे हैं।
          भारतीय लोकतंत्र में, बात चाहे जीतने वाले उम्मीदवार की, की जाये अथवा युवा नेतृत्व की, चयन की प्रक्रिया घर से ही शुरू होती है और घर में ही लक्ष्य की प्राप्ति कर लेती है। शुरुआत करते हैं देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कांग्रेस से। वर्तमान में नेहरू-गांधी परिवार की चौथी पीढ़ी के राहुल गांधी का नेतृत्व भारत के मत्थे मढ़ने के लिये उनकी माँ सोनिया गांधी छटपटा रही हैं। कांग्रेस में परिवारवाद की बीमारी, कैंसर के रोग की तरह है जिसके निदानपूंर्ण इलाज के लिए अभी भी रिसर्च की आवश्यकता है।
          वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस के वंशवाद का विरोध करते-करते भारतीय जनता पार्टी को भी वंशवाद का रोग लग गया है, यह अलग बात है कि भाजपा में उसने अभी राजवंश का रूप नहीं लिया है। भाजपा के अन्दरखाने तो परिवारवाद फल-फूल रहा है लेकिन शुक्र है कि राष्ट्रीय नेतृत्व किसी वसीयतनामे से संचालित नहीं हो रहा है। कांग्रेस के विरोध स्वरूप उपजे अन्य राजनीतिक दलों की बात करें तो राष्ट्रीय जनता दल के लालू यादव ने अपने सत्ता से हटने के बाद अपनी पत्नी राबड़ी देवी को ही बिहार का मुख्यमंत्री बना दिया। उनका दल एक तरह से वंशवाद की परिभाषा तले ही आता है। उत्तर प्रदेश के चुनावी समर में हिस्सा ले रही समाजवादी पार्टी के स्वत्वाधिकारी एवं पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने अपने सगे बेटे अखिलेश यादव को पार्टी का नया चेहरा बना दिया है। यह पार्टी भी वंशवाद का ही अनुशरण कर रही है।
          समाजवादी पार्टी के मुखिया हैं, मुलायम सिंह यादव। उनके भाई, रामगोपाल यादव, पार्टी के महासचिव होने के साथ-साथ राज्यसभा सदस्य एवं पार्टी के प्रवक्ता भी बना दिये गये हैं। प्रवक्ता का पद अभी हाल ही में उन्हें पार्टी के वरिष्ठ नेता मोहन सिंह से छीनकर दिया गया है। घ्यान रहे मोहन सिंह उनके परिवार से नहीं थे इसीलिए पद छीनने में कोई ज्यादा सोचने समझने की जरूरत नहीं पड़ी। मुलायम सिंह के दूसरे भाई शिवपाल सिंह यादव, उ.प्र.के निवर्तमान नेता विरोधी दल तथा विधायक हैं। मुलायम सिंह यादव के सुपुत्र अखिलेश यादव, उ.प्र.समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष एवं सांसद हैं। इनकी पत्नी डिम्पल यादव भी फिरोजाबाद से संसदीय चुनाव लड़ी थीं,हार गयीं वरना वह भी सांसद होतीं। मुलायम के भतीजे धर्मेन्द्र यादव भी सांसद हैं। लोगों का ऐसा कहना है कि इस परिवार का कोई सदस्य ऐसा नहीं है जो 25 वर्ष से अधिक का हो और विधायक अथवा सांसद न हो। कुल मिलाकर, यह एक लिमिटेड कम्पनी ही है,जिसके 51 प्रतिशत शेयर इसी परिवार के पास हैं और सारा प्रबन्धतंत्र इन्हीं के हाथ में है। पूरा परिवार जब खाने की टेबल पर बैठ जाये समझ लीजिए समाजवादी पार्टी की कैबीनेट बैठी हुई है।
          इसी सप्ताह इस कम्पनी में नरेश अग्रवाल अपने पूरे कुनबे सहित यह कहकर समाहित हो गये हैं कि अब जाकर राजनीतिक रूप से स्वतंत्र हुआ हूं। जब तक मुलायम सिंह को मुख्यमंत्री नहीं बना लेता चैन से नहीं बैठने वाला। ऐसा कहकर उन्होंने यह जताने की कोशिश की कि वे जिसे चाहें मुख्यमंत्री बना सकते हैं क्योंकि उनमें स्वंय मुख्यमंत्री बनने की क्षमता नहीं है,इसलिए किसी दूसरे नेता को ही मुख्यमंत्री बनवाना उनकी मजबूरी है। उन्होंने कहा कि जो गलती हुई उसके लिये क्षमा चाहता हूं। नेता जी आपका ऋण अदा करके ही रहूंगा। (30 दिसम्बर को समाजवादी पार्टी ज्वाइन करते वक्त नरेश अग्रवाल द्वारा व्यक्त किये गये उदगार)  इससे पूर्व जब 28 मई 2008 को सपा छोड़कर बहुजन समाज पार्टी में शामिल हुए थे तो क्या कहा था, वह भी देखिए।
          समाजवादी पार्टी, परिवार तक सीमित रह गयी है। अब पूरा राजनीतिक जीवन मैं बहिन जी को अर्पित कर रहा हूं। मेरे बाद मेरा बेटा नितिन उनके साथ रहेगा। मायावती जी भावी प्रधानमंत्री ही नहीं देश की कर्णधार भी हैं। उनकी कथनी-करनी में कभी अन्तर नहीं रहा है। बहुजन समाज पार्टी से सांसद एवं पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव नरेश अग्रवाल अपने पूरे कुनबे सहित फिर से हांथी से फिसलकर गिर पड़े और साइकिल पर सवार हो गये हैं। उनके पुत्र नितिन अग्रवाल,हरदोई से बसपा विधायक हैं। नरेश अग्रवाल के भाई व पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष मुकेश अग्रवाल, इनकी पत्नी व जिला पंचायत अध्यक्ष कामिनी अग्रवाल और पूर्व विधान परिषद सदस्य राजकुमार अग्रवाल,बावन की बसपा विधायक राजेश्वरी ने सपा की सदस्यता ग्रहण कर ली है। परिवारवाद की यह संक्रमणीय बीमारी वह कांग्रेस से ही लेकर आये हैं।
          नरेश अग्रवाल मूल रूप से कांग्रेसी हैं। वह कांग्रेस सरकार में मंत्री रहे हैं। वर्ष 1997 में उन्होंने कांग्रेस छोड़कर अपनी लोकतांत्रिक कांग्रेस पार्टी बना ली थी और भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार में मंत्री बने थे। इसके बाद वह समाजवादी पार्टी की सरकार में मंत्री बने। 2007 में वह सपा के टिकट से ही जीते लेकिन पांच सालों के घने अंधेरे की रेप्लिका देखने के बाद 28 मई 2008 को वह इसी तरह बसपा में शामिल हुए थे। बसपा ने उन्हें पार्टी का राष्ट्रीय महासचिव बनाने के बाद राज्यसभा सदस्य भी बनवा दिया। अब जबकि उनका कार्यकाल अप्रैल 2012 में समाप्त हो रहा है, अपने नफे-नुकसान का आंकलन करते हुए (चुकि वे वैश्य जाति के हैं) पूरे परिवार सहित सपा में चले गये हैं।
          राष्ट्रीय स्तर की बहुजन समाज पार्टी जिसकी राष्ट्रीय अध्यक्ष सुश्री मायावती हैं, जरूर राजवंश की बीमारी से ग्रस्त नहीं हैं,लेकिन उनकी पार्टी में भी परिवारवाद की वंशबेल के रूप में छोटे-छोटे मनी प्लान्ट बड़ी खूबशूरती से फल-फूल रहे हैं। बसपा में राजवंश तो दिखाई नहीं दिया, बावजूद इसके कि सुश्री मायावती का भरा-पूरा परिवार है। उनके परिवार में माता-पिता, भाई-बहन सभी मौजूद हैं, इसके बाद भी उनका एक भी परिवारी न तो विधायक है, न ही सांसद। लेकिन उनकी पार्टी परिवारवाद को सींचने का काम क्यों कर रही है,चिंतन का विषय है। उनकी सरकार में नम्बर दो की हैसियत रखने वाले नसीमुद्दीन सिद्दीकी की पत्नी हुस्ना सिद्दीकी, विधान परिषद की सदस्य बना दी गयी हैं। बसपा सांसद, बृजेश पाठक की पत्नी नम्रता पाठक, उन्नाव से बसपा प्रत्याशी हैं तथा उनके साले अरविन्द त्रिपाठी भी विधान परिषद सदस्य हैं। बहुजन समाज पार्टी में ही रामवीर उपाध्याय, ऊर्जा मंत्री की पत्नी सीमा उपाध्याय, बसपा सांसद हैं, उनके भाई मुकुल उपाध्याय, विधान परिषद सदस्य हैं तथा एक अन्य भाई डिबाई विधान सभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। बसपा के ही मंत्री हैं, स्वामी प्रसाद मौर्या, जिनके पुत्र एवं पुत्री बसपा से प्रत्याशी बनाये गये हैं। बसपा के ही एमएलसी हैं, रामचन्द्र प्रधान, जिनके भाई धर्मेन्द्र प्रधान जिला पंचायत अध्यक्ष हैं और पत्नी अनीता प्रधान को राजनीति में लाने की तैयारी है।
          जम्मू-काश्मीर में शेख अब्दुल्ला और फारूक अब्दुल्ला के बाद अब उमर अब्दुल्ला जम्मू-कश्मीर की कमान संभाले हुए हैं। विपक्ष की भूमिका में मुफ्ती मोहम्मद सईद और उनकी पुत्री महबूबा ही हैं। महाराष्ट्र में ठाकरे और शरद पवार परिवारवाद की मैट्रो ट्रेन को स्पीड पकड़ाये हुए हैं। पंजाब में प्रकाश सिह बादल का पूरा परिवार राजनीति में प्रवेश कर गया है। प्रकाश सिह बादल, मुख्यमंत्री और अकाली दल के मुखिया हैं। इनके बेटे सुखबीर सिंह बादल, उपमुख्यमंत्री एवं पार्टी अध्यक्ष हैं। इनकी पुत्रवधू हरसिमरत कौर बादल,सांसद हैं। पुत्र सुखबीर के साले विक्रम मजीठिया, विधायक और युवा अकाली दल के अध्यक्ष है। बादल के भतीजे, मनप्रीत बादल, पूर्व मंत्री हैं तथा नई पार्टी का गठन किया है। बादल के दामाद आदेश प्रताप सिह कैरों,कैबिनेट मंत्री हैं, जो सुरिन्दर प्रताप सिंह केरों, पूर्व सांसद के पुत्र तथा स्व0 प्रताप सिंह कैरो पूर्व मुख्यमंत्री के पौत्र हैं।
          ओडीशा में बीजू पटनायक के बाद,उनकी पार्टी ने उनके बेटे नवीन पटनायक को ही सबसे उपयुक्त माना है। राजस्थान में विपक्ष में बैठी वसुन्धरा राजे ने अपने बेटे दुश्यंत सिंह को सांसद बनवा दिया। वसुन्धरा राजे द्वारा, ऐसा किया जाना अचरज उत्पन्न नहीं करता क्योंकि वह तो राजवंश की हैं ही। मध्य प्रदेश का ग्वालियर क्षेत्र परिवारवादी राजनीति का ही नमूना है। तमिलनाडु में कलैगनार कुनबा और उसकी सियासत तमिलनाडु को ही नहीं अपितु केन्द्र को भी प्रभावित करता है। सूबे की सत्ता में बैठी अन्नाद्रुमक पार्टी में एम.जी.रामचन्द्रन की राजनीतिक विरासत पत्नी के बजाये प्रेमिका जे. जयललिता के हाथ में होना भी परिवारवाद के अन्तर्गत ही कहा जायेगा। 

         आन्ध्र प्रदेश में फिल्म अभिनेता स्व.एन.टी.रामाराव का परिवार पक्ष और विपक्ष दोनों खेमों में विराजमान हैं। बेटी डी पुरंदेश्वरी केन्द्र की कांग्रेस सरकार में मंत्री है तो दामाद चन्द्रबाबू नायडू विपक्ष की तेलगुदेशम पार्टी के बरसों से मुखिया हैं। राजवंश की पोषक,कांग्रेस पार्टी की मुखिया सोनिया गांधी ने जो फार्मूला अपने लिये अपनाया हुआ है, उसी फार्मूले के आधार पर, हेलीकॉप्टर हादसे में मारे गये मुख्यमंत्री वाईएस राजशेखर रेड्डी की जगह उनके बेटे जगन मोहन रेड्डी को आन्ध्र प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाने से इंकार कर दिया, जिसके फलस्वरूप कांग्रेस को विभाजन झेलना पड़ा।
          भारतीय राजनीति में वंशवाद अथवा परिवारवाद की परम्परा बड़ी तेजी से फल-फूल रही है और यह प्रवृत्ति देश हित के बजाय स्वहित का पोषण कर रही है, इसलिए स्वस्थ लोकतंत्र के लिये हानिकारक ही नहीं अपितु खतरनाक भी है। (सतीश प्रधान)   

1 comments:

Khemraj said...

Thanks for this great description.

Post a Comment

Pls. if possible, mention your account address.