Sunday, 6 May 2012

परमाणु बिजली से तौबा


          विश्व में जहॉं एक ओर विकासशील देश परमाणु ऊर्जा के लिए जीतोड़ गफलत कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर पूंर्ण रूप से विकसित जापान इस प्रकार की खतरनाक एटामिक पॉवर इनर्जी (परमाणु विद्युत ऊर्जा) से किनारा करने में लगा है। विश्वयुद्ध के दौरान अपने दो शहरों, हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु हमला झेल चुके जापान में परमाणु ऊर्जा का उत्पादन आज से धीर-धीरे कम होते हुए अतीत की बात हो जायेगी।
          जापान में ही पिछले साल फुकुशिमा परमाणु ऊर्जा सयंत्र से फैले विकिरण ने उपरोक्त दो शहरों पर हुई परमाणु तबाही को पुर्नजीवित कर दिया था। इसका नतीजा यह हुआ कि जापानी परमाणु ऊर्जा संस्थान होकाइदो इलेक्ट्रिक पॉवर कम्पनी ने जापान के आखिरी सक्रिय परमाणु रिएक्टर से विद्युत उत्पादन को 5 मई से बन्द करना शुरू कर दिया है। अपनी जनता के प्रति वफादार और शुभचिन्तक जापान ऐसा पहला देश बन गया है जो परमाणु क्षमता सम्पन्न होने के बावजूद उसके दुष्परिणामों से चिंतित होते हुए अब परमाणु ऊर्जा से मुक्त हो जायेगा। परमाणु ऊर्जा के उपयोग में जापान का दुनिया में तीसरा स्थान था। परमाणु ऊर्जा से अंतिम रूप से मुक्त होने की स्थिति 4 मई 1970 के बाद पहली बार आई है।
          1970 तक जापान में दो परमाणु ऊर्जा संयंत्र थे जिन्हें 4 मई 1970 को रखरखाव के लिए पॉंच दिनों तक बन्द रखा गया था। पिछले साल मार्च में जब भूकम्प और सुनामी के कारण फुकुशिमा परमाणु संयंत्र से रेडियोधर्मी रेज़ का रिसाव हुआ और विकिरण फैला तो भारी तबाही मची और जनता का परमाणु ऊर्जा से मोह भंग हो गया, जिसका असर वहॉं की सरकार पर पड़ा, और उसी कारण से होकाइदो इलेक्ट्रिक पॉवर कम्पनी ने ऐलान किया कि उसने शम पॉंच बजे से उत्तरी जापान स्थित तोमारी परमाणु संयंत्र की 912 मेगावाट की क्षमता वाली तीन नम्बर की इकाई से बिजली का उत्पादन कम करना शुरू कर दिया है। इस प्रकार से उगते सूरज के देश में सभी 50 परमाणु रिएक्टरों से ऊर्जा उत्पादित करने के सूरज को अस्त कर दिया गया। (सतीश प्रधान)

0 comments:

Post a Comment

Pl. if possible, mention your email address.